Hindi Sex Story – बीवी का प्रेमी

Hindi Sex Story
Hindi Sex Story – बीवी का प्रेमी

Hindi Sex Story

बीवी का प्रेमी is an erotic Hindi Sex Story in cuckold genre in Hindi. This story is part of an erotic Hindi novel available on Amazon.com

To visit the original novel, please visit the following link.

https://goo.gl/nK3F7t

बीवी का प्रेमी

 

उसकी कल्पना ने उसे दगा नहीं दिया था. उसे वही दिखा जिसका उसे डर था.

वो दोनों दीवार से टिके हुये खड़े थे. श्रुतिका की पीठ दीवार पर टिकी थी और रोशन उसकी गर्दन को चूम रहा था. श्रुतिका की बाहें रोशन के गले में थी और वो उसे कास कर अपनी बाहों में पकड़ी हुयी थी. उसकी आंखें बंद थी और वो हलके से रोशन के कान में कुछ  कह रही थी. उसके शब्द एकदम अस्पष्ट थे और अविनाश को कुछ समझ नहीं आ रहा था.

श्रुतिका अब भी साडी पहने हुये थी लेकिन रोशन अब सिर्फ एक शार्ट पहने हुये था. उसकी कमर के ऊपर कुछ भी नहीं था.

“आह रोशन डार्लिंग. आय लव यू सो मच डार्लिंग.” वो रोशन के कान में कह रही थी. उसी पल श्रुतिका को अविनाश के वहां आने का अहसास हुआ और उसने अपनी आंखे खोली. अब रोशन को भी वो समझा और उसने मुड़कर अपनी माशूका के पती को देखा और अजीब सा हंसा.

“अविनाश, अब मैं तुम्हे दिखाता हूं की एक असली मर्द तेरी बीवी जैसी मदमस्त और भरी हुयी औरत को कैसे खुश रखता है. अगर तुम उसे एक असली मर्द की तरह खुश रख सकते तो वो यहां मेरे साथ कभी नहीं आती. पर अब वो मेरे साथ है और अब वो मेरी है. इसलिये अब देखो की एक मर्द तुम्हारी बीवी को कैसे खुश करता है.” इतना कहने के बाद उसने श्रुतिका के लंबे खुले हुये बालों को झटका देकर खिंचा और उसे अपनी तरफ खिंचा. एक झटके में उनके होंठ एक दुसरे से टकराये और वो एक दुसरे को पागलों की तरह चूमने लगे.

श्रुतिका ने भी अपना मुंह खोल दिया और रोशन की लपलपाती हुयी जीभ उसके मुंह में घुस गयी. वो कुछ पल तक एक दुसरे वैसे को चूमते रहे. फिर रोशनने श्रुतिका को झटके स खिंचा और वो उसके पीछे खड़ा हुआ.अब श्रुतिका का चेहरा अपने पती की तरफ था और रोशन उसके पीछे खड़ा था. रोशन की पीठ दिवार की तरफ थी.

रोशन ने फिर एक बार श्रुतिका के बालों को खिंचा. श्रुतिका लगभग चिल्लायी और रोशन ने उसका चेहरा अपनी ओर करते हुये उसके रसीले होठों को एक बार और चूमा. उसी वक्त उसने अपने दोनों हाथ श्रुतिका  के स्तनों के ऊपर रखे और उन्हें मसलना शुरू किया. फिर उसने श्रुतिका को गर्दन की चूमना शुरू किया और उसी वक् उसके स्तनों को मसलता रहा. कुछ पल बाद उसने श्रुतिका की साडी का पल्लू बाजू में हटा दिया.

फिर उसने बिना कुछ कहे श्रुतिका के ब्लाउज के सब हुक तोड़ दिये और उसके कप्स को बाजू में किया. अविनाश की नजर में अपनी बीवी बड़े मम्मे आये लेकिन उनपर कब्ज़ा रोशन के हाथों का था. उसने श्रुतिका के मम्मे हाथ में लेकर उन्हें ब्रा के ऊपर से ही दबाना शुरू किया.

“ऊ मां रोशन, कितने जोर से दबा रहे हो. दर्द हो रहा है. आज इतना रफ क्यों हो मुझसे? मेरा पती देख रहा है इसलिये ना? देखो मेरा ब्लाउज फाड़ दिया तुमने.” इतना कहकर उसने अपने पती की तरफ देखते हुये एक हलकी सी स्माइल दी. फिर उसने अपना हाथ पीछे ले जाकर रोशन के लंड को टटोलने की कोशिश की.

“डार्लिंग, तेरे इस पती को तुझ जैसी मदमस्त और सेक्सी औरत को कैसे संभालते है ये पता नहीं है, इसलिये उसे सिखाना पड़ेगा. उसे लगता है की तू एक सीधी साधी औरत है. पर मैं उसे दिखाने वाला हूं की तू कैसी चुदक्काड रांड है.” इतना कहने के बाद रोशन ने श्रुतिका के बड़े मम्मे उसकी ब्रा से बाहर निकाले.

अविनाश अपनी बीवी और उसके आशिक के बीच का ये सेक्सी खेल मंत्रमुग्ध होकर देख रहा था. रोशन अब श्रुतिका के बड़े मम्मे अपने हाथो से सहला रहा था और उन्हें जोर से मसल रहा था. उसके स्तन किसी बलून की तरह रगड़ रहे थे. उसके मुंह से मादक आवाजे निकल रही रही और वो एकटक अपने पती की आंखों में देख रही थी. कुछ पल उसने अविनाश की आंखों में आंखे डालकर देखा और फिर अपनी आंखें बंद कर ली और अपना सर रोशन के कंधो पर रख दिया.

उसके बार वो अपने होठ दातों के बिच दबाते हुये मद भरी आवाजें निकलने लगी. रोशन के हाथों कर उसके स्तनों पर स्पर्श जैसे उसके बदन में आग लगा रहा था. रोशन उसकी उंगलियों के बीच श्रुतिका ने निप्पलस दबा रहा था और वहां एक अच्छा खासा लाल रंग का दाग आया था. रोशन श्रुतिका की गर्दन को अपनी जीभ से चाट रहा था और हाथों से उसके मम्मे दबा रहा था.

“देख अविनाश, तेरी बीवी कैसे नाचती है मेरे ताल पर. उसके मम्मों को हाथ लगते ही कैसी आवाजे निकल रही है उसके मुंह से.”रोशन फिर से अविनाश की तरफ देखकर बोला. अविनाश का मुंह खुला था और वो अपनी बीवी की तरफ देख रहा था. वो अब रोशन की बाहों में तिलमिला रही थी. उसकी योनी का रस पुरे कमरे को महका रहा था. रोशन श्रुतिका के मम्मों को अच्छी तरह से मसल रहा था और उसके स्तनों की नाजुक त्वचा लाल हो रही थी.

“उह मां रोशन. आय लव यू बेबी.”अविनाश अपनी बीवी और रोशन का ये मदमस्त सेक्स का खेल खुली आंखों से देख रहा था. लेकिन उसका खुद का लिंग अब तन रहा था और खड़ा हो रहा था. उसे यकीन नहीं हो रहा था की उसकी बीवी एक गैर मर्द को उसकी आंखों के सामने आय लव यू कह रही थी.

एक पल रुककर रोशनने श्रुतिका के स्तनों पर दो तीन झापड़ मारे और श्रुतिका तड़प उठी.

“देख तेरी बीवी की मम्मे कैसे लाल हो रहे है मेरे हाथों में आकर. उसे अच्छा लगता है जब मैं उसे ऐसे रफ ट्रीट करता हूं उसे. तुम्हे तो पता भी नहीं रहेगा? उसके मम्मे झापड़ मार कर लाल हो गए तो वो बहुत मूड में आ जाती है वो. है ना डार्लिंग?.रोशन पहले अविनाश को बोला और फिर श्रुतिका से कहा.

“हां जानू लेकिन मेरे मम्मों को सिर्फ तुमने लाल किया तो ही अच्छा लगता है. सिर्फ तुमने.” ये कहते हुये वो अपनी पती की आंखों में आंखे डालकर देख रही थी

अब रोशनने फिर एक बार श्रुतिका को अपनी ओर मोड़ा और उसे दीवार की तरफ पीठ करके खड़ा किया. अब रोशन की पीठ उसकी तरफ थी और उसे श्रुतिका का चेहरा दिख रहा था. रोशन ने श्रुतिका की गर्दन पर अपने होठ टिकाये और वो उसकी गर्दन को चूमने लगा.

श्रुतिका ने रोशन का चेहरा नीचे धकेलने की कोशिश की और वो उसके कान में कुछ कहने लगी. उसकी सांसे धीमे से चल रही थी और उसके मम्मे हलके हलके ऊपर नीचे हो रहे थे.

“रोशन, मेरे मम्मों को चाटो ना जानू. बहुत आग लगी है मेरे जिस्म में और वो सिर्फ तुम बुझा सकते हो.” रोशनने जैसे श्रुतिका की इच्छा पूरी करने के लिये अपना मुंह उसके भरे हुये रसीले मम्मों की बीच दबाया. उसकी दाढ़ी का स्पर्श उसके भरे हुये मम्मों को होते ही श्रुतिका सिहर उठी.

“आह रोशन, चाटो ना जानू मेरे मम्मों को. मेरे मम्मे सिर्फ तुम्हारे लिये हैं  जान. और चाटो और गीला करो मेरे मम्मों को.”श्रुतिका आवेग में आकर रोशन के कान में हलके से जैसे गुनगुना रही थी. उसके हाथ रोशन की पीठ और गर्दन सहला रहे थे और उसके बालों में घूम रहे थे. रोशन ने उसका दायां स्तन अपने मुंह में लेते ही प्रियंका तड़प उठी. उसकी जीभ का निप्पल पर स्पर्श होने से तो उसकी बाहों में मचल रही थी. उसका पूरा बदन जैसे आग में झुलस रहा था. रोशन अब उसके मम्मों के नीचे वाली जगह को अपनी जीभ से गीला कर रहा था औत चाट रहा था. उसके दातों का स्पर्श होते ही श्रुतिका तड़प उठती थी. लेकिन अब उसके जिस्म में सिर्फ हवस और वासना भरी थी और उस दर्द की कोई परवा नहीं थी.कुछ देर उसके दायें स्तन को मन माफिक चूसने के बाद रोशन ने अब उसका बायां स्तन अपने मुंह में लिया.

“हो गयी अब तुम्हारे ककोल्ड बनने की ख्वाहिश पूरी? नीचे तो देखो कितना बड़ा हो गया तुम्हारा. सच में तुम ककोल्ड हो मेरे. मजा आ रहा है ना अपनी बीवी को दुसरे मर्द की बाहों में देखकर? अभी तो हम बेड तक भी नहीं पहुंचे है और तुम्हारा ये हाल है.”श्रुतिका हंसी और उसकी आंखें अविनाश के तनते हुये लंड पर गयी. अविनाश को अब खुद की ही शर्म आ रही थी. उसे रोशन से मिले हुये सिर्फ एक घंटा ही हुआ था और उसे वो अच्छा नहीं लग रहा था. लेकिन फिर भी अपनी बीवी को उसकी बाहों में नंगा देखकर उसका लंड खड़ा हो रहा था. उसकी बीवी मम्मे रोशन को चाटते हुये देखकर उसे ऐसे नशा चढ़ रहा था जैसे की वो खुद ही श्रुतिका के मम्मे चाट रहा हो.

वो बिना कुछ कहे रोशन को श्रुतिका के मम्मे चाटते हुये देख रहा था.

“अविनाश, मैं तुम्हारे जवाब का इंतेजार कर रही हूं. मजा आ रहा है क्या तुम्हे?”श्रुतिका ने उसे पूछा लेकिन इस बार उसकी आवाज में थोडा ज्यादा कठोरपन था. अविनाश को समझ में आया की श्रुतिका जान बुझकर उसके मुंह से ये सुनना चाहती है और रोशन को भी सुनाना चाहती है.

“हां डार्लिंग, रोशन को तुम्हारे मम्मे चूसते हुये देखकर मेरा लंड खड़ा हो रहा है.”अविनाश ने अपनी बीवी को देखते हुये कहा और उसका आपने आप से काबू खो गया.

“अच्छा है क्योंकि आज के बाद तुम हम दोनों को ऐसे काफी बार देखने वाले हो.” ये रोशन ने उसे कहा और फिर वो वापस श्रुतिका के मम्मे चूसने में लग गया. श्रुतिका ने अपनी आंखें बंद कर ली और और वो रोशन के बाल सहलाने लगी.

“आह रोशन, धीरे से काटो जानू. मेरे मम्मे है. पूरा अभी लाल कर के छोड़ डोज तो कल क्या खाओगे? कल ही खाना है ना. थोडा ध्यान रखकर काटो.”लेकिन ये कहते हुये भी उसने अपने हाथ रोशन की गर्दन पे से नहीं हटाये थे. उसे रोशन का मुंह अपने मम्मों पर चाहिये था.

अपनी बीवी और रोशन के बीच का ये मादक दृश्य देखकर अविनाश अब होश खो चूका था और खुद अपने लंड को टटोल रहा था. उसे शर्म आ रही थी लेकिनउसी वक्त उसे ऐसे लग रहा था जैसे उसका जिस्म हवस की आग में झुलस रहा था. वो हलके से पैंट के ऊपर से ही अपने लंड को छू रहा था और सहला रहा था.

“मुझे मेरा गिफ्ट तो बताओ जानू.”श्रुतिका ने हंसते हुये हलके से अपना हाथ रोशन की जांघों के बीच लगाया. वो उसकी शोर्ट के बटन खोलने लगी. बटन खोलने के बाद उसने उसकी ज़िप भी खोल दी और रोशन का बड़ा लंड उसके हाथ में आ गया. उसने रोशन के लंड को हाथ से सहलाया और रोशन के मुंह से एक सिसकी निकल गयी.

उसे ऐसा लगा जैसे उसके जिस्म से करंट जा चूका है. उसने श्रुतिका के कूल्हों को कसकर पकड़ा और अपनी तरफ खिंचा और उसके होठों पर अपने होठ रखकर चूसने लगा. फिर एक बार उन्होंने मेरे सामने ही एक लंबा चुंबन लिया. अविनाश अब बेबस हो कर अपनी बीवी और उसके आशिक की रतिक्रीड़ा देख रहा था.

श्रुतिका हलके हलके रोशन के लंड को सहला रही थी और वो उसके हाथ में काफी बड़ा हो गया था और तानकर सेवा के लिये तैयार था. रोशनने श्रुतिका के होठों से अपने होठ हटाये और हांफते हुये उससे कहा.

“डार्लिंग, अब घुटनों के बल बैठ जा और मेरे इस गिफ्ट को अपने मुंह में ले जल्दी से. बड़ा होगा तभी तो तुझे खुश करेगा ये. कबसे तुम्हारे मुंह और होठों के लिये तरस रहा है. सुर तेरे उस ककोल्ड पती को बता की तू कैसे चूसती है.” ये कहते हुये रोशन अविनाश की तरफ देख रहा था. लेकिन अविनाश की नजर अपने बीवी के गोर और नग्न मम्मों की तरफ थी. वो अपना ताना हुआ लेकिन छोटा सा लंड हिला रहा था.

श्रुतिका ने फिर एक बार अपने पती की तरफ देखा. उसकी आंखों में अब एक अजीब स नशा था. वो अपनी नशीली आंखों से अविनाश की तरफ कुछ पल के लिए देखती रही. फिर बिना कुछ कहे वो अपने घुटनों के बल पर बैठ गयी. उसके बाल पीठ पर खुले थे. होठों का लिपस्टिक अब इधर उधर फ़ैल गया था. उसके बड़े बड़े मम्मे ब्रा के बाहर थे और उस पर रोशन के दातों से बने हुये लाल दाग थे. उसका ब्लाउज फटा हुआ था. साडी अब भी कमर में लटकाई हुयी थी.

अविनाश की आंखों के सामने श्रुतिका ने रोशन का लंड अपने हाथ में लिया और हलके से उसे सहलाया. फिर वो अपना मुंह उसकी तरफ लेकर गयी और उसपर अपने गाल घिसने लगी. उसने अपनी आंखें बंद कर ली थी और उसके नाक में अब रोशन के वीर्य की खुशबु जा रही थी और उसे और भी बहका रही थी.

रोशन श्रुतिका के मम्मों को अपनेहाथ से हिला रहा था और मसल रहा था. दुसरे हाथ से उसने श्रुतिका के गाल को सहलाया तो श्रुतिका सिहर गयी. फिर उसने अपना हाथ उसकी गर्दन के पीछे ले जाकर उसके चेहरे को अप्नेलंद की तरफ खिंचा. श्रुतिका एक पल के लिये रुकी लेकिन फिर उसने अपने आप को रोशन के हवाले कर दिया और अपना मुंह खोल दिया. एक पल में रोशन का बड़ा सा लंड श्रुतिका के मुंह में था.

अविनाश को रोशन का लंड देखते ही जैसे सांप सूंघ गया था. उसका आकर देखकर ही उसके जैसे होश ही उड़ गए थे. उसे ऐसे लगा जैसे वो श्रुतिका को फाड़ कर ही रख देगा. उसको यकीन ही नहीं हो रहा था श्रुतिका इतना बड़ा लंड अपने अंदर समा पायेगी.

पर इस वक्त श्रुतिका उसे अपने मुंह में लेकर किसी लोलिपॉप की तरह चूस रही थी. अविनाश को यकीन नहीं हो रहा था की उसकी सीधी साधी बीवी इतनी जल्दी बदल सकती है और किसी गैर मर्द का लंड अपने मुंह में ले सकती है. रोशन ने अब श्रुतिका के बालों को अपने हाथ से कस कर पकड़ रखा था और श्रुतिका उसे मुखमैथुन का आनंद दे रही थी. ये सुख आज तक उसने अविनाश को कभी भी नहीं दिया था.

रोशन अब उन्माद से चीख रहा था. उसने अपना सर पीछे की तरफ धकेला और अपनी आंखे बंद कर ली. श्रुतिका का गिलौर गर्म मुंह अब उसे इतना सुख दे रहा था जो उसने आज तक कभी भी नहीं देखा था. श्रुतिका उसके लिंग को हाथ में पकड़ कर अपना मुंह आगे पीछे हिला रही थी और उसे स्वर्गसुख दे रही थी. रोशन की आंखें बंद थी और वो हलके से श्रुतिका के बालों को सहला रहा था.

अब उन दोनों ने अपने आप को पूरी तरह वासना को समर्पित कर दिया था. वो दोनों अब जैसे भूल ही गए थे की अविनाश वहीँ खड़ा होकर उन दोनों की ये मादक रतिक्रीड़ा देख रहा है. और अब उन दोनों को अविनाश को निचा दिखाने की भी कोई इच्छा नहीं थी. अविनाश अपना लंड हाथ से हिलाते हुये उन्हें देख रहा था.

 

Author’s Note:

This story is part of an erotic Hindi cuckold novel named “बीवी का प्रेमी” which is available on Amazon on the below mentioned link.

बीवी का प्रेमी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *